बचपन में खेलना कितना ज़रूरी है | How Important Playing In Childhood

How Important Playing In Childhood | आमतौर पर अगर देखा जाएं तो बच्चों के मिडल क्लास परिवार के लोग बच्चों के खेलने कूदने के खिलाफ ही रहते है। ये लोग खेल खुद को पढ़ाई के लिए नुकसानदायक मानते है। जबकि आज कल के पैरेंट्स की यह सोच होना बहुत गलत है क्योंकि आज के समय में जितनी महत्वपूर्ण पढ़ाई लिखाई करना है उतना ही महत्वपूर्ण बच्चों के लिए खेलना कुदना भी है और साथ ही आपको ये जानकर बड़ी हैरानी होगी कि खेलने कूदने से सिर्फ बच्चों की सेहत में ही नही बल्कि पढ़ाई में भी बहुत लाभ मिलता है।

जी हाँ दोस्तों, रेगुलर खेलने कूदने से बच्चों के जीवन मे काफी तरह के विकास होते है जैसे स्किल डेवलेपमेंट देखने को मिलता है और भी बहुत से अन्य लाभ है जिससे केवल बच्चों का आत्मविश्वास ही नही बढ़ता बल्कि बच्चे शारिरिक और मानसिक रूप से भी फिट रहने लगते है। 

How Important Playing In Childhood

बचपन में बच्चे ज्यादा से ज्यादा खेलना पसंद करते है और उन बच्चों का स्वास्थ्य भी हमेशा ठीक रहता है लेकिन वहीं बच्चों के माता पिता उनके खेलने के खिलाफ होते है। बहुत से बच्चे ऐसे भी होते है जिनको बचपन मे भी खेलना कूदना पसंद नही होता है और वे अपना बचपन घर में रहकर ही निकाल देते है वैसे बच्चे जिंदगी भर सुस्त ही रहते है और उनका दिमागी रूप से भी विकास कम ही होता है।

माता पिता का बच्चों की पढ़ाई के लिए कहना भी सही होता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि बच्चों के लिए खेलना कूदना भी बहुत जरूरी है? हमारे आज के इस Article How Important Playing In Childhood में हम आपको खेलने कूदने के हमारे जीवन में क्या क्या फायदे है उसी के बारे मे बताने वाले है इसलिए Article में अंत तक बने रहे। तो चलिए शुरू करते है –

1. दिमागी शक्ति को मजबूत बनाता है | How Important Playing In Childhood

जब बच्चे छोटे होते है तो वे खिलौनों से खेलना ज्यादा पसंद करते है और खिलौनों का उपयोग करते समय बच्चे अपने दिमाग का उपयोग करते है। बच्चे अपने दिमाग का उपयोग करके यह पता लगाते है के यह खिलौना कैसे काम करता है और इससे कैसे खेला जाता है इसलिए बच्चों को हमेशा उनके हाथ में खिलौना तमाकर छोड़ दे और उन्हें अपने हिसाब से खेलने दें। इससे आप बच्चे की दिमागी शक्ति को बढ़ा सकते है और ऐसा करने से बच्चे का IQ लेवल भी बढ़ता है।

2. बच्चों की Personality में सुधार आता है | How Important Playing In Childhood

खेलने कूदने से बच्चों के अंदर कहीं तरह की Skill Develop होती है। खेलने से न केवल बच्चों की बौद्धिक क्षमता मे सुधार आता है बल्कि मानसिक रूप से भी बच्चे काफी खुश और स्वस्थ आते हैं। वहीं बच्चे के द्वारा Team में खेलते समय Team work टीम के लिए खेलना, Patience रखना, Leadership करना और हार और जीत के साथ Deal करना भी सीखते है जिससे उनकी Personality और उनके Character मे Loyalty (वफादारी) बढ़ती है और उनकी पढाई पर भी Positive Impact पड़ता है।

3. Social Skills बढ़ती है | How Important Playing In Childhood

How Important Playing In Childhood

एक बच्चा जब उसके जैसे दूसरे बच्चों के साथ खेलता है उनसे मिलता है उन सब के बीच बातचीत होती है, वह एक दूसरे से व्यवहार बनाते है, बच्चों के बीच दोस्ती होती है। इससे बच्चे एक दुसरे से बातचीत करना सीखते है और एक टीम मे रहकर अपनी टीम के लिए खेलना सीखते है, टीम का सहयोग करते है, बच्चे इससे एक दुसरे के साथ मिलजुल कर रहना सीखते है। इससे बच्चों का मानसिक रूप से भी तेजी से विकास होता है।

4. बच्चे खुश रहना सीखते है | How Important Playing In Childhood

बच्चे जब खेलते है तब वह अपनी सारी चीज़े भूल जाते है और अपना पुरा ध्यान बस खेल पर ही रखते है। इससे बच्चे काफी हद तक खुश रह पाते है क्योंकि जब बच्चा खेल रहा होता है तब अगर उसके कोई शारिरिक तकलीफ या कोई चोट या दर्द है तो वह उस भूल जायेगा अगर बच्चे के कोई मानसिक तकलीफ या किसी तरह का कोई तनाव है तो वह उसे भी भूल जायेगा। बच्चा जब अपना पुरा ध्यान खेल पर रखता है तो इससे उसका Concentration Level भी बढ़ता है। इससे फिर वह और भी अन्य चीजों पर ज्यादा अच्छे से Concentrate कर पाता है और बच्चों के अंदर एक Smartness आने लगती है। 

5. बच्चों को तनाव से दूर ले जाता है | How Important Playing In Childhood

जब बच्चे धीरे धीरे बड़े होते जाते है तो बहुत सारी चीज़े आने लगती है, उन्हें बहुत सी चीज़ों का सामना करना पड़ता है।सभी के जीवन में अलग तरह के तनाव रहते ही है। लेकिन खेलने कूदने के लिए जब बच्चे बाहर जाते है तो इससे उन्हें तनाव को संतुलित करना आने लगता है। खेलने से उन्हें यह सीखने को मिलता है की वे अपने जीवन में तनाव को कैसे संतुलित करना होता है। 

6. शारिरिक स्वास्थ्य बेहतर होता है | How Important Playing In Childhood

बचपन के दिनों में खेलने कूदने से बच्चों को दूसरों की तुलना में ज्यादा शारिरिक मजबूती मिलती है। खेलते समय बच्चे इधर उधर बागते रहते है जिससे वो थके ही रहते है और उनका हृदय ज्यादा स्पीड से पंप करने लगता है और उससे उनका Blood Circulation काफी अच्छा होता है। खेलते समय बच्चे कहीं और भी अन्य चीजों का अनुबव करते है। खेलने के कारण बच्चे काफी तक जाते है जिस कारण वह अच्छी नींद ले पाते है। 

धन्यवाद

इसे भी पढ़े

ReplyForwardAdd reaction

My Name is H. Rathore. I am a passionate blogger and content creator with a keen interest in personal development. My dedication to personal development is evident in my thought-provoking articles on self-improvement and mindfulness.

1 thought on “बचपन में खेलना कितना ज़रूरी है | How Important Playing In Childhood”

  1. I do trust all the ideas youve presented in your post They are really convincing and will definitely work Nonetheless the posts are too short for newbies May just you please lengthen them a bit from next time Thank you for the post

    Reply

Leave a Comment